बंगाल ट्रिपल मर्डर केस को राजनीतिक रंग देने के लिए बीजेपी पूरी तरह तैयार है

लगभग एक सप्ताह हो गया है मुर्शिदाबाद ट्रिपल मर्डर केस हुए, जिसमें एक ही परिवार के तीन लोगों की मृत्यु हो गयी। पिछले मंगलवार को एक स्कूल के शिक्षक बंधुप्रकाश पाल, उनकी पत्नी ब्यूटी और उनके बेटे आंगन की उनके घर पर बेरहमी से हत्या कर दी गयी।

ब्यूटी उस दौरान गर्भवती थी। आरएसएस के साथ-साथ बीजेपी ने दावा करना शुरू कर दिया है कि बंधुप्रकाश पॉल आरएसएस के सक्रिय सदस्य थे और हत्या के मामले में गंभीर राजनीतिक मंशा शामिल थी।

मृतक के परिजनों द्वारा इस बात से इनकार किए जाने के बावजूद कि जिस व्यक्ति की हत्या हुई है, उसका कोई राजनीतिक संबंध था, पश्चिम बंगाल भाजपा का विंग इसे राजनीतिक हत्या साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।

हत्या

पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के जियागंज इलाके में मंगलवार को दुर्गा पूजा उत्सव के अवसर पर 35 वर्षीय शिक्षक बन्धुप्रकाश पाल, उनकी गर्भवती पत्नी ब्यूटी और उनके आठ वर्षीय बेटे आंगन को उनके घर में मृत पाया गया।

शनिवार को पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया और सीआईडी ​​अधिकारियों की एक टीम ने अपराध स्थल का दौरा किया।

जबरन राजनीतिक संबंध

बंधुप्रकाश के बहनोई, दिप्तिमान सरकार ने कहा कि उनके रिश्तेदारों की मृत्यु के बाद आरएसएस के एक सदस्य ने उन्हें आर्थिक मदद की पेशकश की थी।

सरकार ने आर्थिक मदद लेने से मना कर दिया और यह भी कहा के बन्धूप्रकाश किसी भी राजनीतिक गतिविधि से जुड़े हुए नहीं थे।

दिप्तिमान सरकार ने एक मीडिया हाउस को बताया “एक व्यक्ति ने मुझे फोन किया और कहा कि वह कोलकाता से बोल रहा है। मुझे उसका नाम याद नहीं है। सबसे पहले, मैंने सोचा कि वह कोई शिक्षक होगा क्योंकि वह आर्थिक रूप से बंधुप्रकाश की मदद करना चाहते थे। इसलिए मैंने उनसे कहा कि उन्हें किसी वित्तीय मदद की ज़रूरत नहीं है”।

“उसने कहा के वह आरएसएस का एक सदस्य है। मैंने उसे कहा की मुझे लगता है कि मैं किसी भी दल या धर्मों के बीच अंतर की परवाह नहीं करता। मैंने उस वित्तीय मदद के लिए भी मना कर दिया। मैं यह भी बताता हूं कि मेरे बहनोई ने कभी भी किसी राजनीतिक दल के साथ समझौता नहीं किया है,“ उन्होंने आगे कहा।

मृतक शिक्षक की मां ने इस बात से भी इनकार किया कि उनके बेटे का भाजपा या आरएसएस जैसे किसी भी राजनीतिक संगठन के साथ किसी तरह का जुड़ाव था।

बन्धूप्रकाश की की माँ मैया पाल टोल ने कहा, “वह एक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता नहीं थे। वह किसी भी राजनीतिक दल के साथ जुड़े नहीं थे। वह राजनीतिक गतिविधि के किसी भी प्रकार से शामिल नहीं थे। “


Also Read: Hindus Will Get A Clean Chit In NRC, Said Amit Shah! But What About The Muslims?


तहकीकात…

परिवार के सदस्यों के दावों के अलावा, पुलिस की जांच भी इशारा कर रही है कि यह व्यक्तिगत दुश्मनी का मामला है और इसमें कोई राजनीतिक मामला जुड़ा हुआ नहीं है। जांच के अनुसार, हत्या की जगह पर एक डायरी नोट पाया गया, जिसने परिवार में गंभीर मतभेदों के तरफ इशारा किया है।

लेकिन संजय सिंह, एडीजी, उत्तर बंगाल ने इस मुद्दे के बारे में ज्यादा टिप्पणी नहीं की क्योंकि जांच अभी भी जारी है।

राजनीति खेलने के लिए शवों की आवश्यकता क्यों है?

संघी शांत रहने के लिए तैयार नहीं हैं और सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारी पोस्ट कर रहे हैं ताकि लोगों को यह महसूस हो सके कि पश्चिम बंगाल में एक सौम्य भाजपा समर्थक की हत्या हुई और कोई भी व्यक्ति विरोध करने के लिए नहीं आ रहा है।

उन्होंने इस हत्या को सांप्रदायिक रूप देने की भी कोशिश की, जिसमें मुख्य रूप से कहा गया कि बंधुप्रकाश और उनका परिवार मारा गया क्योंकि उन्होंने एक स्थानीय मस्जिद के अवैध निर्माण का विरोध किया था

आरएसएस और भाजपा के हस्तक्षेप के कारण एक जटिल हत्या का मामला और अधिक जटिल हो गया है और लगातार आंदोलन पश्चिम बंगाल के लोगों को भ्रमित कर रहा है।

पिछले कुछ दिनों में राज्य में काफी राजनीतिक उथल-पुथल देखी गई थी और इस मामले में, एक राजनीतिक पार्टी खुलेआम 3 शवों के साथ राजनीति कर रही है, जिसमें से एक आठ साल के बच्चे की लाश भी मौजूद है।


Sources: India TodayFirstpost

Image Source: Google Images

Originally Written In English By: @UrmiKhasnobish

Translated in Hindi By @innocentlysane


Also recommended:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here